ads

पथरी बनने की दिक्कत है तो इन बातों का ध्यान रखें

जब शरीर में पानी की कमी से यूरिक एसिड और कैल्शियम ऑग्जिलेट गुर्दे में जमा होकर पथरी बनाते हैं। बचाव के लिए रोजाना करीब तीन लीटर पानी पीएं। जिन्हें पथरी की समस्या है वे बीज वाली सब्जियां जैसे टमाटर, मिर्च, बैंगन के साथ पालक और हरे पत्तेदार सब्जियां खाने से बचें। इनमें कैल्शियम ऑग्जिलेट ज्यादा होता है। होम्योपैथी में बल्बेरिस वल्गेरिस, सारसपरेला और हाइड्रेंजिया आदि दवाइयां दी जाती है। डॉक्टरी सलाह से लें।

डॉ. कोमल कौशिक, आयुर्वेद विशेषज्ञ, एनआइए, जयपुर

सवाल- खर्राटे की दिक्कत रहती है। क्या करें?
बदलती दिनचर्या से मोटापा बढ़ रहा है। खर्राटा भी उसी का एक दुष्प्रभाव है। वजन नियंत्रित रखें तो खर्राटे कम आएंगे। नियमित योग, व्यायाम व प्राणायाम करें। अल्कोहल व नींद की गोलियों से खर्राटे बढ़ते हंै। सीधे सोने की बजाय करवट लेकर सोने से खर्राटे कम आते हैं। कुछ लोगों की नींद भी इससे ही टूटती है। उनमें स्लीप एप्निया की भी दिक्कत होती है। विशेषज्ञ को दिखाकर सलाह लें। कुछ उपकरण भी इसमें राहत देते हैं।

डॉ. तरुण ओझा
सीनियर इएनटी सर्जन, जयपुर



Source पथरी बनने की दिक्कत है तो इन बातों का ध्यान रखें
https://ift.tt/3bSbbqq

Post a Comment

0 Comments